UP Labour Registration 2024 : UPBOCW श्रमिक पंजीकरण ऐसे करे 2024|

UP Labour Registration –  UPBOCW श्रमिक पंजीकरण का मतलब है उत्तर प्रदेश विशेष प्रकार के श्रमिकों का पंजीकरण। यह एक प्रक्रिया है जिसमें उत्तर प्रदेश राज्य में विशेष प्रकार के श्रमिक जैसे कि बौद्ध, जैन, सिक्ख, मुस्लिम, पार्सी, आदि के लोगों का श्रमिक पंजीकरण किया जाता है। इस पंजीकरण के माध्यम से उन्हें विभिन्न सरकारी योजनाओं और लाभों का उपयोग करने का अधिकार प्राप्त होता है  और ज्यादा जानकारी के लिए इस आर्टिकल को अंत तक पढ़े।

UP Labour Registration

आपको UPBOCW श्रमिक पंजीकरण के बारे में और अधिक जानकारी चाहिए तो आपको स्थानीय श्रम विभाग या उत्तर प्रदेश सरकार की आधिकारिक वेबसाइट पर जाकर विवरण प्राप्त कर सकते हैं।

UP Labour Registration

UP Labour श्रमिक पंजीकरण उद्देश्य : 

UPBOCW का पूरा नाम “उत्तर प्रदेश अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति और अत्यंत पिछड़ा वर्ग श्रमिक पंजीकरण” है, और यह उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा चलाया जाने वाला एक पंजीकरण प्रक्रिया है। इसका मुख्य उद्देश्य निम्नलिखित हो सकता है:

1. योजनाओं और लाभार्थियों के लिए निर्धारित आरक्षित प्राधिकृत परिपथ पर पहुँचने का उन्नत क्रियान्वन करना।
2. अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति, और अत्यंत पिछड़ा वर्ग के श्रमिकों को सरकारी योजनाओं और सुविधाओं का उपयोग करने का अधिक अवसर प्रदान करना।
3. इन वर्गों के श्रमिकों के सामाजिक और आर्थिक विकास को प्रोत्साहित करना।
4. इन श्रमिकों के लिए रोजगार के अधिक अवसर प्रदान करना और उनकी आर्थिक स्थिति में सुधार करना।

योजना का नामयूपी लेबर कार्ड योजना
लाभार्थीउत्तर प्रदेश के श्रमिक भाई
उद्देश्यश्रमिकों को आर्थिक सहायता देना और लाभ प्रदान करना
राज्यउत्तर प्रदेश
आवेदनऑनलाइन
हेल्पलाइन नंबर1800180 5412
आधिकारिक वेबसाइटwww. upbocw.in

उत्तर प्रदेश लेबर रजिस्ट्रेशन के लिए जरूरी डॉक्यूमेंट :

  • आधार कार्ड
  • फोटो
  • बैंक पासबुक
  • मोबाइल नंबर
  • ईमेल आईडी
  • प्रमाण पत्र

UP Labour श्रमिक पंजीकरण लाभ और विशेषताएं :

UPBOCW (उत्तर प्रदेश भवन और अन्य निर्माण श्रमिक सेना कार्यकर्ता) श्रमिक पंजीकरण कई लाभ और विशेषताओं के साथ आता है:

1. सामर्थ्य सर्टिफिकेट: पंजीकृत श्रमिकों को एक सामर्थ्य सर्टिफिकेट प्राप्त होता है, जो उन्हें नौकरी प्राप्त करने में मदद करता है.

2. वित्तीय सहायता: श्रमिकों को आर्थिक सहायता प्राप्त करने के लिए कई सरकारी योजनाएं और लाभ उपलब्ध कराई जाती हैं.

3. औद्योगिक बीमा: यह पंजीकरण श्रमिकों को औद्योगिक बीमा का लाभ प्राप्त करने में मदद करता है, जिससे उन्हें दुर्घटनाओं और बीमा कवर की सुरक्षा मिलती है.

4. आर्थिक सुरक्षा: श्रमिकों को अपनी आर्थिक सुरक्षा को बढ़ाने के लिए विभिन्न योजनाएं और सुविधाएं प्राप्त होती हैं.

5. कई सरकारी योजनाएं: उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा श्रमिकों के लिए विभिन्न सरकारी योजनाएं प्रदान की जाती हैं, जैसे कि नियोक्ता पंजीकरण और विकसित वर्गों के लिए विशेष योजनाएं.

इन लाभों के अलावा, UPBOCW पंजीकरण श्रमिकों को कई अन्य सेवाएं भी प्रदान करता है जो उनकी सामाजिक और आर्थिक गुदवाचन को सुधारने में मदद करती हैं।

UP Labour Registration 2023
UPBOCW श्रमिक पंजीकरण रजिस्ट्रेशन कैसे करे :

UPBOCW (उत्तर प्रदेश बिल्डिंग और अन्य सामुदायिक कामगार कल्याण बोर्ड) में श्रमिक पंजीकरण रजिस्ट्रेशन करने के लिए निम्नलिखित कदमों का पालन करें:

1. आधिकारिक वेबसाइट पर जाएं: UPBOCW की आधिकारिक वेबसाइट पर जाएं।

2. रजिस्ट्रेशन पेज पर जाएं: वेबसाइट पर, “श्रमिक पंजीकरण” या समर्थन के लिए विशेष पृष्ठ को खोजें और उस पर क्लिक करें।

3. आवश्यक जानकारी प्रदान करें: आपसे अपनी व्यक्तिगत और पेशेवर जानकारी प्रदान करने के लिए अनुदेश दिए जाएंगे। इसमें आपका नाम, पता, जन्मतिथि, शिक्षा, पेशेवर जानकारी, आदि शामिल हो सकता है।

4. दस्तावेज अपलोड करें: आपके द्वारा आवश्यक दस्तावेज, जैसे कि पहचान प्रमाण पत्र, जन्म प्रमाण पत्र, और पेशेवर सर्टिफिकेट जैसे किसी भी आवश्यक दस्तावेजों को अपलोड करने की आवश्यकता हो सकती है।

5. विवरण सत्यापन: आपके प्रस्तुत डेटा की सत्यापन के बाद, आपका श्रमिक पंजीकरण प्रक्रिया पूरी हो जाएगा।

6. पंजीकरण सर्टिफिकेट: सफल पंजीकरण के बाद, आपको एक पंजीकरण सर्टिफिकेट प्राप्त होगा, जिसे आप डाउनलोड कर सकते हैं और प्रिंट कर सकते हैं।

FAQ

यूपी लेबर कार्ड कैसे बनाएं?

उत्तर प्रदेश श्रम विभाग की वेबसाइट पर जाइए – UPBOCW.IN.

  1. श्रमिक पंजीयन आवेदन करें पर क्लिक कीजिये.
  2. आवेदन फॉर्म में सभी जानकारी सही-सही भरिये.
  3. OTP प्रमाणित कर आधार सत्यापन कीजिये.
  4. अंत में पंजीयन करें पर क्लिक कर फॉर्म सबमिट कीजिये.

यूपी में लेबर कार्ड के लिए कौन आवेदन कर सकता है?

इस योजना का लाभ लेने के लिए आपको यूपी का मूल निवासी होना होगा। इसका लाभ केवल 18 वर्ष से 60 वर्ष तक के व्यक्तियों को दिया जाएगा। इसके लाभ लेने के लिए आवेदक श्रमिक के रूप में कम से कम 90 दिनों के लिए काम करना होगा। यूपी लेबर कार्ड का लाभ केवल उसी नागरिक को दिया जाएगा जिसकी मासिक आय ₹15000 से कम है।

लेबर कार्ड किसका बन सकता है?

श्रमिक के पास आधार कार्ड होना चाहिए। उम्मीदवार श्रमिक की आयु 18 वर्ष से 60 वर्ष के बीच होनी चाहिए। परिवार के एक ही सदस्य का श्रमिक कार्ड बनेगा। जिन श्रमिकों ने 12 महीने में 90 दिन श्रमिक के रूप में कार्य किया है वे इस योजना में अपना रजिस्ट्रेशन करा सकते है।


Posted

in

by

Tags:

Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *